Saturday, 14 January 2017

A Hindi Poem about Sex: Sex is Sacred | सेक्स पवित्र है...





सेक्स

अगर 'इश्क़' का हिस्सा है
तो पवित्र है,

अगर 'रज़ामंदी' का हिस्सा है
तो कोई बुराई नहीं है,

और अगर 'जबरदस्ती' का हिस्सा है
तो घोर पाप है.

और हां...

"परिपक्वता एवं समझदारी"
सेक्स के सन्दर्भ में
बहुत जरुरी हैं.

-Rajendra Nehra
(Author, my tukbandi)
www.mytukbandi.in


You might also like:

Love and Sex







आप भी अपनी हिंदी रचना को My Tukbandi पर प्रकाशन के लिए भेज सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर जाएं:

Submit your Hindi Stuff to ‘my tukbandi’



*Image Source: Pexels

2 comments: